News

SPLCWO संस्था भाग गयी तो क्या होगा ?

किसी भी संस्था या कंपनी में हम जुड़ते है तो हमारे दिमाग में एक सवाल जरूर आता है कि संस्था या कंपनी भाग गई तो क्या होगा |
ऐसा सवाल आना इसलिए भी जरूरी होता है की हम अपने साथ - साथ अपने जान-पहचान के लोगों को भी उस संस्था या कंपनी में जोड़ते है और वे सभी लोग हमारी जिम्मेदारी पर जुड़ते है | यदि कोई कंपनी या संस्था भाग जाती है तो लोग हमें बुरा - भला भी बोल सकते है |

आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे की यदि SPLCWO संस्था भाग गई तो क्या होगा, कहीं आपने जिन लोगों को संस्था के साथ जोड़ा है वो आपसे उल्टा - सीदा तो नहीं बोलेंगे |

अब हमें सबसे पहले ये जानना होगा कि कोई संस्था या कम्पनी क्यों भागती है | किसी भी संस्था या कंपनी के भागने का सबसे बड़ा कारण है यदि कोई कंपनी लोगों से पैसे इन्वेस्ट करवाती है और उनको बोलती है कि इतने दिन बाद आपको इतना पैसा मिलेगा और जब पैसे देने का समय आता है तो भाग जाती है | अर्थात किसी कंपनी ने आपको बोला की आप रु. 50,000/- जमा करों और 5 साल बाद आपको 5 लाख रुपये मिल जाएगा | ऐसी स्थिति में  लोग लालच में आजाते है कि रु. 50 हजार का 5 लाख मिल रहा है | तो लोग ज्यादा पैसे के लालच में अपनी मेहनत का पैसा जमा कर देते है और अपने दिमाग का प्रयोग नहीं करते है | जब कोई इनकम का सोर्स ही नहीं है तो आपका पैसा इतना कैसे हो जायेगा | और ऐसी कंपनी पेमेंट देने के समय किनारा कर लेती है यानि भाग जाती है |

लेकिन आज हम किसी कंपनी कि नहीं एक समाज सेवी संस्था "स्पेशल चाइल्ड वेलफेयर आर्गेनाइजेशन" यानि SPLCWO की बात कर रहे है | यदि आप इस संस्था के साथ जुड़ते है तो आपका कोई रिस्क तो नहीं है ये संस्था कहीं भाग गयी तो क्या होगा ?

जैसे की मैंने आपको ऊपर बताया है की कोई भी कंपनी या संस्था जब भागती है तब उसको अपने साथ जुड़े लोगों द्वारा जो इन्वेस्टमेंट कराई होती है उस पैसे को वापिस करना होता है और वापिस न करना पड़े इसलिए भाग जाती है |

लेकिन SPLCWO संस्था किसी से भी अपने यहाँ कोई पैसे इन्वेस्ट नहीं करवाती है तो भागने का तो कोई सवाल ही नहीं उठता है | क्योंकि ये एक समाज सेवी संस्था है और ये संस्था गरीब, अनाथ, बेसरा और बेरोजगार लोगों की सहायता करने के लिए 3 तरीके से पैसे इकठ्ठा करती है - 

1. मेम्बरशिप से :-

यदि आप इस संस्था के मेम्बर बनना चाहता है तो आपको इस संस्था में रु. 1000/- जमा करने पड़ेंगे और अपना मेम्बरशिप का फॉर्म भरकर संस्था को भेजना होगा, ऑनलाइन या ऑफलाइन | उसके बाद संस्था आपके फॉर्म को चेक करती है और आप संस्था के आजीवन मेम्बर बन जाते है |

अब यहाँ ये जानना बहुत जरूरी है की मेम्बरशिप लेने का क्या फायदा होता है : -  

तो यहाँ में आपको क्लियर कर दूं ये संस्था एक NGO है जो समाज की सेवा करने के लिए अपने मेंबर्स से सहयोग लेती है यदि संस्था के पास पैसे ही इकठ्ठा नहीं होंगे तो संस्था किसी की सहायता कैसे कर सकती है | तो जो लोग समाज सेवा के लिए योग दान देना चाहते है वे लोग इस संस्था के मेम्बर बन सकते है | अब सवाल आता है कि संस्था ने अपने मेंबर्स से न तो कोई इन्वेस्टमेंट कराई है और न ही ऐसा कोई पैसा लिया है जो इसको अपने मेम्बर्स को वापिस करना पड़ेगा तो इस संस्था के भागने का तो कोई सवाल ही नहीं उठता है, क्योंकि लोग समाज सेवा के लिए अपना सहयोग देते है, और उस पैसे को संस्था समाज की सेवा करने में खर्च करती है और संस्था के मेम्बर्स संस्था की सहायता करते है |

(10 बेरोजगार बताने का मिलेगा 2 करोड़ रुपये !)

2. चंदा के रूप में :- 

संस्था की इनकम का दुसर स्रोत है, लोगों से चंदा लेना यानी डोनेशन लेकर पैसे इकठ्ठा करना, जिससे ज्यादा से ज्यादा लोगों की सहायता कर सके | चंदा या डोनेशन लोग अपनी इच्छा से देते है, गरीब, अनाथ और बेरोजगार लोगों की सहायता करने के लिए | अब आप खुद ही सोचिये, अगर आपने किसी को कोई दान दे दिया है तो क्या वो कभी आपको वापिस मिलेगा, यानी नहीं तो फिर संस्था आपका क्या लेकर भागेगी | जब  चंदा या दान का पैसा तो किसी को वापिस ही नहीं करना है | तो भागने का तो कोई सवाल ही नहीं उठता है, क्योंकि संस्था को तो पैसा लोग अपनी इच्छा से देते ही रहते है | 

3. अपने इनकम प्लेटफार्म से : - 

संस्था "स्पेशल चाइल्ड वेलफेयर आर्गेनाइजेशन" की इनकम का सबसे बड़ा इनकम स्रोत है, अपने खुद के बनाये हुए इनकम प्लेटफार्म, जिनके साथ आज 70 लाख से भी ज्यादा लोग जुड़ें हुए है जो अपने घर से ही ऑनलाइन या ऑनलाइन काम करके 10 हजार से 10 लाख रुपये महिना या उससे भी अधिक कमाते है | संस्था कहती है की कोई भी व्यक्ति जो संस्था का मेम्बर हो वो संस्था के नियमानुसार संस्था के प्लेटफार्म का प्रयोग करके घर बैठे पैसे कमा सकता है और संस्था की सहायता करने के लिए अपनी इनकम में से मात्र 10 प्रतिशत पैसा संस्था को दान देदे, इससे आपको ये फायदा होता है की आपको संस्था घर बैठे लाखों रुपये महीने कमाने का प्लेटफार्म बनाकर दे रही है और जहा से आपको आपके काम का पूरा 100 प्रतिशत पैसा मिलता है | जिसमें से केबल आपको 10 प्रतिशत गरीब, अनाथ और बेरोजगार लोगों की सहायता करने के लिए संस्था को दान देना है, अगर आप इंतना भी नहीं कर सकते है तो फिर आप किसी समाज सेवी संस्था के साथ काम करने योग्य नहीं है | फिर तो ऐसे लोगों को किसी कंपनी में ही काम करना चाहिए, जहाँ कंपनी आपके काम का केबल 10 प्रतिशत आपको देती है और पूरा 90 प्रतिशत अपने पास रखती है |

तो जैसे की मैंने आपको ऊपर बताया है, इन तीन तरीको के अलावा संस्था किसी से भी कोई पैसा नहीं लेती है और न ही किसी से कोई इन्वेस्टमेंट करवाती है तो संस्था के भागने का तो कोई सवाल ही नहीं उठता है |

अब सवाल उठता है कि, आपने काम कर दिया और पैसे नहीं मिले तो ?

सबसे पहली बात तो ये है कि आप जो भी काम करते है, उसका पैसा तुरंत आपके SPLCASH ACCOUNT में आजाता है जहाँ से आपको अपने खाते में पेमेंट लेने के लिए  SPLCASH अकाउंट से अपने खाते में पैसे ट्रांसफर करने होते है. तो ये पूरा प्रोसेस आपके हाथ में है | और फिर भी आपने काम किया हो और आप SPLCASH ACCOUNT से अपने खाते में पैसे ट्रांसफर नहीं कर पा रहे है तो आप SPL TEAM को मेल कर सकते है | जब आप अपना SPLCASH में रजिस्ट्रेशन करते है तो आपको संस्था द्वारा 40 लोगों की टीम दी जाती है जो आपके काम में आपकी सहायता करती है | ये 40 लोगों की टीम आपके लिए 20 साल तक काम करेगी, जिसके बदले में आपको अपनी रजिस्ट्रेशन फीस रु. 750/- जीवन में एक बार देनी है | यानी एक व्यक्ति से पूरी साल काम कराने का आपको मात्र रु. 1/- ( एक रूपया ) ही देना है बाकी का पैसा संस्था देती है |

(SPLCASH से अपने खाते में पैसे कैसे ले !)

दूसरा सवाल आता है कि SPLCASH में रजिस्ट्रेशन फीस रु. 750/- लगती है वो क्या है ?

SPLCASH में रजिस्ट्रेशन की जो फीस है वो आपके रजिस्ट्रेशन का खर्चा है, जो 40 लोगों की SPL टीम को जाता है, जिसके बदले में वो आपकी आगे आने वाले 20 साल का सहायता करते है | न की कोई आपके द्वारा इन्वेस्टमेंट किया गया है जो आपको कभी वापिस मिलेगा | ( आप खुद ही सोचिये, यदि आपको SPL टीम में सामिल कर दिया जाएँ तो आप काम करने का पैसा नहीं लेंगे या फ्री में ही काम करते रहेंगे तो वो लोग भी आप में से ही है, किसी दुसरे गृह से नहीं आये है और एक दिन आप भी SPL टीम में शामिल होकर काम कर सकते है | अर्थात एक बार आपका रजिस्ट्रेशन होकर आपका एसपीएल अकाउंट एक्टिवेट हो गया तो आपके रजिस्ट्रेशन का पैसा ख़त्म हो जाता है | ये वैसा ही खर्चा है जैसे हम किसी नौकरी के लिए फॉर्म भरते है | यहाँ भी आपको अपने फॉर्म को भरने की फीस ही देनी है जो कि मात्र रु. 750/- है | जो जीवन में आपको एक बार खर्च करनी है | यदि आप कहीं नौकरी के लिए फॉर्म भरते है तो उसमें हजारों रुपये खर्च करने के बाद भी आपको कुछ नहीं मिलता है | लेकिन यहाँ संस्था आपको घर बैठे लाखों रुपये महिना कमाने का प्लेटफार्म बनाकर दे रही है | जिसका प्रयोग करके आप घर बैठे इनकम कर सकते है |

अब कोई कहे की हमारे रजिस्ट्रेशन का पैसा वापिस मिल जाए तो पूरी दुनियाँ में खर्चा वापिस नहीं होता है | वैसे आपको बता दे, संस्था एक व्यक्ति का पूरा रजिस्ट्रेशन कम्पलीट करने तक में रु. 15,000/- खर्च करती है | जिसका मात्र 5 प्रतिशत ही उस व्यक्ति से लेती है जो संस्था के साथ काम करने के लिए अपना रजिस्ट्रेशन कर रहा है | बाकी का  95 प्रतिशत पैसे संस्था खुद खर्च करती है | यदि कोई व्यक्ति अपना रजिस्ट्रेशन कैन्सिल कराना चाहता है तो उसको रजिस्ट्रेशन कैन्सिल का खर्चा मात्र रु. 15,000/- ही जमा करना पड़ेगा और 15 दिन के अन्दर आपका रजिस्ट्रेशन कैन्सिल हो जाएगा | उसके बाद आपको संस्था से कोई फायदा नहीं मिलेगा | और यदि फिर से आप संस्था में काम करना चाहते है तो उसके लिए आपको अपने री-रजिस्ट्रेशन की पूरी फीस रु. 15,000/- ही जमा करनी होगी, फिर रु. 750/- में आपका रजिस्ट्रेशन नहीं होगा | रु. 750/- में सिर्फ पहली बार ही रजिस्ट्रेशन किया जाता है |

अब कोई व्यक्ति 1 लाख या 2 लाख रुपये महिना कमाने के लिए रु. 750/- खर्च करके अपना रजिस्ट्रेशन भी नहीं कर सकता है तो वो अपने जीवन में और क्या करेगा | पूरी जिंदगी गरीब ही रहेगा और अपनी किस्मत को दोष देगा |

तो ऊपर बताये तमाम सवालों से आपके समझ में आगया होगा की, संस्था किसी से कोई कर्ज नहीं लेती है और न ही कोई इन्वेस्टमेंट करवाती है और न कोई ऐसा काम करती है, जिसके लिए आप संस्था को कोई पैसे देते है | जब आपने संस्था को कुछ दिया ही नहीं है और आप संस्था के प्लेटफार्म का प्रयोग करके लाखों रुपये महिना कमा रहे हो तो संस्था क्यों भागेगी | कोई एक कारण तो होना चाहिए संस्था के भागने का | संस्था से जितने ज्यादा लोग जुड़ेंगे, उससे लोगों को और संस्था, दोनों को ही फायदा होगा और ये एक समाज सेवा का भी काम है |

ऊपर बताएं किसी भी तरीके से पैसे लेने के लिए संस्था को "भारत सरकार" से मान्यता मिली हुई है तो कोई भी लीगल क़ानून भी संस्था नहीं तोड़ रही है |

तो मेरा कहने का तात्पर्य यही है की आप इस संस्था "स्पेशल चाइल्ड वेलफेयर आर्गेनाइजेशन" पर पूरा विश्वास कर सकते है और इस संस्था के साथ जुड़कर आप भी घर बैठे लाखों रुपये महिना कमा सकते है |
संस्था के साथ काम करने या आप कैसे जुड़ सकते है और आपको कैसे अपने घर से काम करना है, उन सब की जानकारी आपको संस्था के चैनल "SPL LIVE LEARNING" की विडियो में मिल जाएगी |
आप एक-एक करके विडियो देखें और विडियो में बताये तरीके के अनुसार काम करते जाएँ आपको घर बैठे-बैठे लाखों रुपये महिना आपके खाते में आने लगेगा |

अपना रजिस्ट्रेशन करने के लिए यहाँ क्लिक करें  

You can share this post!

HEMALATA

HEMALATA

By Admin


03 Comments

  • comments

    Nitiya, August 29, 2017

    Borem Ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry Lorem Ipsum has been the industry's standard dummy text.

  • comments

    Fahim, August 29, 2017

    Borem Ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry Lorem Ipsum has been the industry's standard dummy text.

Leave Comments