News

फुल ब्लॉग गाइड और खर्चे || Complete Blog Guide and Investments ||

फुल ब्लॉग गाइड और खर्चे || Complete Blog Guide and Investments ||


Blogging शुरू करने के लिए किन-किन चीज़ों पर खर्च (invest) करें?

आज हम जानेंगे की अगर आपको एक प्रोफेशनल ब्लॉग्गिंग (Professional Blogging ) में अपना करियर बनाना है या आप फुल टाइम या पार्ट टाइम ब्लॉग्गिंग करके अपने घर से ही 20 हजार रूपए महिना से 50 हजार रुपये महिना तक कमाना चाहते है तो आपको किन-किन चीजों पर खर्चा करना पड़ेगा |

( ब्लॉग क्या होता है उसकी जानकारी के लिए यहाँ क्लिक कीजिये )

सबसे पहले तो आप ये जान लीजिये ब्लॉग्गिंग 2 प्रकार से की जाती है : - 1. पर्सनल ब्लॉग्गिंग ( Personal Blogging ) और 2. प्रोफेशनल ब्लॉग्गिंग ( Professional Blogging )

1. पर्सनल ब्लॉग्गिंग ( Personal Blogging ):-

पर्सनल ब्लॉग्गिंग का चलन इंडिया  में बहुत ज्यादा है, क्योंकि यहाँ पर लोग पैसे तो कमाना चाहते है, लेकिन कोई खर्चा नहीं करना चाहते है इसलिए वो ऐसे फ्री प्लेटफार्म को ब्लॉग्गिंग के लिए सेलेक्ट करते है जहाँ पर उनकी जेब से कोई पैसे खर्च नहीं होते है जैसे : - गूगल का प्लेटफार्म - Blogger.
Google की ब्लॉगर भारत में बहुत फेमस है यहाँ पर कोई भी व्यक्ति अपनी जीमेल आई डी से अपना ब्लॉग बना सकता है और अपने द्वारा कोई भी जानकारी लिख कर लोगों में शेयर कर सकता है | लेकिन यहाँ पर काम करने वाले लोग या तो पैसे नहीं कमा पाते है और कमाते भी है तो बहुत कम, क्योंकि यहाँ पर आपको अपनी पोस्ट को रैंक  में लाने में बहुत समय लग जाता है और यहाँ पर बहुत अच्छे टूल्स भी आपको नहीं मिलते है | लेकिन यहाँ पर जो सबसे अच्छा बेनिफिट होता है वो ये है कि हम फ्री में ब्लॉग्गिंग शुरू कर सकते है और अपने थोड़े से पैसे बचाने के चक्कर में या तो अपनी बहुत सी इनकम को ख़राब करते रहते है या बस टाइम पास की तरह 2-4 हजार रूपए महिना कमाते रहते है !

2. प्रोफेशनल ब्लॉग्गिंग ( Professional Blogging ) :-

प्रोफेशनल ब्लॉग्गिंग ऐसे लोग करते है  जिनको ब्लॉग्गिंग से ही लाखों रुपये महिना कमाना होता है ! प्रोफेशनल ब्लॉग्गिंग भी आप फ्री में कर सकते है या किसी और की वेबसाइट के साथ जुड़कर भी आप प्रोफेशनल ब्लॉग्गिंग कर सकते है | यदि आप अपना खुद की वेबसाइट पर ब्लॉग्गिंग करके पैसे कमाना चाहते है तो उसके लिए आपको बहुत सी चीजों की और कई अन्य जानकारियों की आवश्यकता होगी जिनको हम आगे इस पोस्ट में जानेंगे | लेकिन यही आप केबल ब्लॉग्गिंग करके पैसे ही कमाना चाहते है तो आप बहुत से ऐसे प्लेटफार्म में जिसके साथ जुड़कर आप प्रोफेशनल ब्लॉग्गिंग कर सकते है | किसी अन्य वेबसाइट के साथ जुड़कर ब्लॉग्गिंग करने का जो सबसे बड़ा फायदा है वो ये है की आपको किसी भी वेबसाइट को मैनेज नहीं करना पड़ता और ना ही कोई वेबसाइट के लिए खर्चा करना पड़ता है और ना ही आपको वेबसाइट से रिलेटेड किसी अन्य जानकारी की आवश्यकता होती है | जो वेबसाइट का मालिक होता है वो ही पूरी वेबसाइट के खर्चे और अन्य चीजों को देखता है, आपको तो केबल अपनी ब्लॉग पोस्ट लिखनी है और पोस्ट करनी है |
जितने ज्यादा लोग आपके द्वारा लिखी गयी जानकारी को पढेंगे आपको उतना ही ज्यादा पैसा मिलता रहेगा | यदि आप ऐसा कोई प्लेटफार्म ढूंढ रहे है तो SPLCASH.COM के साथ भी आप प्रोफेशनल ब्लॉग्गिंग कर सकते है ये "स्पेशल चाइल्ड वेलफेयर आर्गेनाइजेशन" का प्लेटफार्म है जिसके साथ आज 70 लाख से भी ज्यादा लोग जुड़ चुके है और हर दिन हजारों रुपये कमाते है तो आप भी कमा सकते है, इस संस्था में हजारों तरीके के अन्य और भी काम है जिनको आप अपने घर से ही कर सकते है | अपना रजिस्ट्रेशन करने के लिए यहाँ क्लिक कीजिये |

यदि आप अपना खुद का प्रोफेशन ब्लॉग बनाना चाहते है और घर बैठे ऑनलाइन ब्लॉग्गिंग या अपने आर्टिकल्स को टाइप करके अच्छी इनकम कमाना चाहते है तो आपको नीचे दी हुई लिस्ट के अनुसार चीजों की आवशयकता होगी :-

Blogging शुरू करने के लिए किन-किन चीज़ों पर खर्च (invest) करें?

1. डोमेन ( Domain ) :- डोमेन किसी वेबसाइट का नाम या URL को बोला जाता है ! अपना खुद का ब्लॉग बनाने के लिए आपको सबसे पहले एक डोमेन नेम लेना होगा : जैसे इस वेबसाइट का डोमेन नेम है splcash.com, ऐसे ही आपको अपनी ब्लॉग वेबसाइट के लिए एक अच्छा डोमेन खरीदना होगा | डोमेन नाम और कीवर्ड और उनके एक्सटेंशन्स के हिसाब से अलग-अलग कीमत में आते है | अगर आप एक अच्छा और प्रोफेशनल लुक वाला डोमेन लेते है तो उसके लिए आपको रु.99 से रु. 5000 तक खर्च करने पढ़ सकते है | 

2. वेब होस्टिंग ( Web Hosting ) :- प्रोफेशनल ब्लॉग्गिंग के लिए जो सबसे जरूरी चीज है वो है वेब होस्टिंग | वेब होस्टिंग वो सर्वर होता है जहाँ पर आपकी वेबसाइट की सभी फाइल्स और डाटा सेव या जमा होता है, जिससे आपकी वेबसाइट हमेशा लाइव रहती है | अगर आप एक अच्छी वेब होस्टिंग लेते है तो कम से कम रु.6000 प्रति साल या रु. 18000 प्रति साल का प्लान लेना होगा तभी आप प्रोफेशनल ब्लॉग्गिंग कर पाएंगे, यदि आप इससे कम की वेबहोस्टिंग लेते है तो आपकी वेबसाइट पर ज्यादा यूजर एक साथ नहीं आ पायेंगे और अगर ज्यादा यूजर एक साथ वेबसाइट को खोलते है तो आपकी वेबसाइट क्रेश या डाउन या बंद भी हो सकती है | यदि आपके ब्लॉग पर बहुत ज्यादा लोग काम करते है या बहुत ज्यादा लोग विजिट करते है तो आपको अपनी होस्टिंग अपग्रेड भी करनी पढ़ सकटी है | कोई बड़ी संस्था या कंपनी लाखों रुपये महीने की होस्टिंग प्लान लेती है | इसलिए उनकी वेबसाइट कभी नहीं बैठती है |

3. होस्टिंग प्लेटफार्म ( Hosting Platform ) : - होस्टिंग प्लेटफार्म उस प्लेटफार्म को बोला जाता है जहाँ पर आपके ब्लॉग को होस्ट किया किया जाएगा | ब्लॉग्गिंग के लिए वर्डप्रेस ( Wordpress) प्रोफेशनल ब्लॉग्गिंग प्लेटफार्म है जहाँ पर सबसे ज्यादा ब्लॉग होस्ट किये जाते है | वर्डप्रेस एक फ्री ब्लॉग्गिंग प्लेटफार्म है जहाँ पर आपको अपना ब्लॉग होस्ट करने का कोई चार्ज नहीं देना होता है |

4. ब्लॉग थीम ( Blog Theme ) : - किसी भी वेबसाइट या ब्लॉग का लुक और उसके खुलने या बंद होने की स्टाइल और उसके मेनू आदि की डिजाईन उसकी थीम पर डिपेंड करती है, आपका ब्लॉग जितना अच्छा लोगों को दिखेगा उतने ज्यादा लोग आपके ब्लॉग से प्रभावित होंगे और आपकी इनकम उतनी ज्यादा भड़ेगी | इसलिए हमें अपने ब्लॉग के लिए कोई अच्छी सी प्रीमियम ब्लॉग थीम की जरूरत पड़ती है | अच्छी प्रोफेशनल प्रीमियम थीम आपको रु. 3000 से रु. 6000 के बीच में मिल जाती है |

5. प्लुगिंस ( Plugins ) :- किसी भी प्रोफेशनल ब्लॉग को और ज्यादा प्रभावी या अपने आर्टिकल्स को ज्यादा शेयर करने या लोगों के जुड़ने की संख्या बढाने या लोगों तक अपने आर्टिकल्स का नोटिफिकेशन पहुँचाने के लिए प्लुगिंस ( Plugins ) की जरूरात पड़ती है | किसी एक प्रोफेशनल ब्लॉग वेबसाइट में रु. 5000 से रु. 10000 तक के प्लुगिंस प्रयोग हो सकते है |

6. वेब डिजाइनिंग ( Web Designing ) : - जब बात अपना ब्लॉग बनाने की हो तो ऊपर बताई सभी चीजों को खरीदने के बाद आपको अपनी वेबसाइट की डिजाईन करनी होती है या आपको अपनी वेबसाइट बनानी होती है, अगर आप खुद ही अपनी वेबसाइट बना सकते है तो ठीक है अन्यथा आप किसी प्रोफेशनल वेब डेवलपर से भी बनवा सकते है, एक अच्छी और प्रोफेशन वेबसाइट डिजाईन करने वाला व्यक्ति रु.5000 से रु. 10000/- के बीच में आपको वेबसाइट बनाकर दे सकता है और आपको आपके लॉग इन आई डी और पासवर्ड बता देगा, जिससे आप फिर अपनी वेबसाइट पर लॉग इन कर सकते है |

7. वेबसाइट मेंटिनेंस ( Website Maintenence ) :- वेबसाइट बनकर तैयार होने से ही आपकी ब्लॉग पूरी नहीं होती है उसके लिए आपको समय-समय पर एक प्रोफेशनल वेब डेवलपर की जरूरत होती है, जैसे अपनी वेबसाइट में कोई बदलाब कराना है या कुछ नई चीजे लगानी है या आपकी वेबसाइट में कोई खराबी आजाती है तो उसको सही करने के लिए आपको एक वेब डेवलपर ही रखना होगा, जिसके लिए आपको उसको हर साल अपनी वेबसाइट मेंटिनेंस का खर्चा भी देना होगा | अगर हम एक छोटे ब्लॉग वेबसाइट के मेंटिनेंस की बात करें तो ये रु. 500/- से रु. 1000/- महिना हो सकता है ! जो की आपको किसी डेवलपर को सालाना मोड में देना होगा तो आप इस खर्चे को रु. 12000/- सालाना मान कर चल सकते है |

8. वेबसाइट रिन्यूअल खर्च  ( Website Renewal Charge ) :- वेबसाइट के रिन्यूअल खर्चे वे खर्चे होते है जो हमें हर साल दोबारा से देने होते है | ऐसा नहीं है की आपने एक बार अपनी ब्लॉग वेबसाइट बनवाली और फिर आपको कोई खर्चा नहीं करना है ! जो भी चीजें आपने खरीदी है वो कुछ लाइफटाइम के लिए होती है लेकिन कुछ सालाना के हिसाब से होती है जैसे :- आपकी वेबसाइट का डोमेन नेम और वेब होस्टिंग और कुछ प्लुगिंस जिनका आपको हर साल रिन्यूअल भी देना होता है | याद रहे रिन्यूअल कभी कभी इनकी कीमत के बराबर या उससे अधिक हो सकता है, क्योंकि पहली बार जब आप खरीदते है तो आपको ये कंपनी कुछ छूट दे देती है, लेकिन रिन्यूअल के समय पूरा पैसा हर साल लेती है | तो अभी ऊपर जो खर्चा आपने किया है वो खर्चा आपको हर साल अपनी वेबसाइट को रिन्यूअल कराने में भी करना पड़ेगा और जब तक करना होगा तब तक आप अपनी वेबसाइट को चालू रखना चाहते है, अगर आपने अपनी वेबसाइट का समय से रिन्यूअल नहीं किया तो आपकी वेबसाइट बंद हो जायेगी और आपने जो भी मेहनत की है या जो कुछ भी अपनी वेबसाइट पर लिखा है वो सब ख़त्म हो जाएगा जो आपको दोबारा नहीं मिलेगा | अगर फिर आप अपनी वेबसाइट को दोबारा से शुरू करना चाहते है तो आपको फिर से एक नई वेबसाइट से शुरुआत करनी होती है |

9. स्टार्ट ब्लॉग्गिंग ( Start Blogging ) :- जब आपकी वेबसाइट पूरी तरीके से बनकर तैयार हो जाए तब आप अपनी वेबसाइट पर ब्लॉग्गिंग करना शुरू कर सकते है | अब आपको अपने दिमाग की तागत अपने ब्लॉग में दिखानी है और ऐसे आर्टिकल्स लिखने है, जिनको लोग अक्सर इन्टरनेट पर सर्च करते हो और उनकी सर्च रिजल्ट में आपका आर्टिकल जाएँ जिससे ज्यादा से ज्यासा लोग आपके आर्टिकल्स को पढ़ने के लिए आपकी ब्लॉग वेबसाइट पर आसकें |

10. पैसे कैसे मिलेंगे ( How To Get Money ) :- जब हमने इतना काम किया है तो जाहिर सी बात है कि ये सब पैसे कमाने के लिए ही तो किया है, तो चलिए जान लेते है की आपको पैसे कैसे मिलेंगे | सबसे पहले तो आप ये जान लीजिये की आप ब्लॉग्गिंग कर रहे है किसी के यहाँ नौकरी नहीं कि आज आपने काम किया और कल ही उसकी पेमेंट आपको मिल जायेगी | भारत जैसे देश में जहाँ लोगों के अन्दर बिलकुल भी धेर्य यानी पेशेंस नहीं होता है वो अक्सर करके ब्लॉग बनाने में पैसे तो खर्च कर देते है लेकिन जल्दी से कमाई शुरू न होने की बजह से ब्लॉग्गिंग करना बंद कर देते है | लेकिन अगर आपको अपने ब्लॉग से पैसे कमाने ही है तो आपको सबसे पहले तो कम से कम 100 से 200 ब्लॉग पोस्ट अपनी ब्लॉग वेबसाइट पर लिखनी होगी और वो पोस्ट भी ऊनिक आपके द्वारा लिखी हुई होनी चाहिए, ऐसा नहीं है कि आपने किसी और के आर्टिकल या किसी किताब या वेबसाइट से कॉपी करके अपनी वेबसाइट पर लिख दिए हो | यहाँ पर सबसे ज्यादा ध्यान रखने वाली बात यही है की आपको अपना ओर्जिनल कंटेंट ही लिखना है जो आपने खुद सोचा हो कहीं और से लेकर या किसी और का लिखा हुआ कंटेंट नहीं लिखना है | जब आपकी ब्लॉग पूरी तरीके से पैसे कमाने के लिए तैयार हो जाएँ तब आपको अपनी वेबसाइट को मोनेटाइज करना होता है |

11. वेबसाइट मोनेटाईजेशन ( Website Monetization ) :- जब आपका ब्लॉग पूरी तरीके से तैयार हो जाता है तो फिर ब्लॉग पर हमें ऐड ( ads) लगाने होते है, क्योंकि ब्लॉग में जो सबसे पहली इनकम होती है वो advertise के द्वारा ही होती है, जिसे मोनेटाइजेशन बोला जाता है | वेबसाइट मोनेटाइज करने के लिए हमें आपनी वेबसाइट को गूगल एडसेंस ( Google Adsense ) से कनेक्ट करना होता है | गूगल एडसेंस से कनेक्ट करने के लिए हमें सबसे पहले गूगल एडसेंस की वेबसाइट पर अपना अकाउंट बनाना होता है जो आपकी जीमेल आई डी से बन जाता है | जब आपका गूगल एडसेंस अकाउंट तैयार हो जाएँ तो उसमें आपको अपनी वेबसाइट का यूआरएल ( URL ) डोमेन नेम डाल कर समिट करना होता है और गूगल के पास आपकी वेबसाइट रिव्यु के लिए चली जाती है | गूगल की टीम आपकी वेबसाइट को चेक करती है कि आपकी वेबसाइट ads लगाने लायक है, कि नहीं, आपने कहीं किसी और का कोई कंटेंट तो अपनी वेबसाइट पर नहीं लिख दिया है | आपकी वेबसाइट का इंडेक्स कैसा है | यदि गूगल एडसेंस की टीम को आपकी वेबसाइट की सभी चीजें सही पाई जाती है तो वो आपकी वेबसाइट पर ads लगाना शुरू कर देते है | फिर जब भी आप अपनी वेबसाइट को खोलेंगे तो आपको गूगल की ads दिखाई देगी | और जब भी कोई और व्यक्ति आपकी वेबसाइट पर विजिट करेगा तो उसको भी ads दिखाई देंगे, यदि कोई विजिटर आपकी वेबसाइट के ads को क्लिक करके किसी अन्य वेबसाइट या किसी अन्य कंपनी की कोई सर्विस देखता है या खरीदता है तो उससे आपको पैसे मिलते है | यहाँ पर ध्यान रखने वाली बात ये है की आपनी वेबसाइट पर दिखाई देने वाली किसी ads को आपको क्लिक नहीं करना है, अगर आपने ऐसा किया तो आपकी वेबसाइट से गूगल ads हटा देगा और आपके एडसेंस अकाउंट को भी बंद करदेगा | यदि एक बार आपका गूगल एडसेंस अकाउंट बंद हो जाता है तो आप दोबारा से नहीं बना सकते है | अब सवाल आता है की आपको पैसे कैसे मिलेगे तो आगे देखिये -

12. खाते में पैसे ( Money In Account ) :- सबसे पहले तो में आपका धन्यवाद करना चाहूँगा की आप अब तक अपना पेशेंस बनायें हुए है, इससे ऐसा लगता है की आप जरूर ब्लॉग्गिंग से पैसे कमाने के योग्य है, क्योंकि ब्लॉग्गिंग में जो सबसे महत्वपूर्ण बात है वो यही है आपका धेर्य, क्योंकि ब्लॉग्गिंग से तुरंत इनकम नहीं होती है | तो चलिए अब जान लेते है की आपके बैंक अकाउंट में  पैसे कैसे आयेंगे | सबसे पहले तो जब आपके एडसेंस अकाउंट में कम से कम 100 डॉलर यानी की लगभग रु.7000/- हो जायेंगे, उसके बाद ही आपको पहली पेमेंट मिलेगी | गूगल एडसेंस कम से कम 100 डॉलर की पेमेंट करता है उससे कम की नहीं | आपको अपनी पहली पेमेंट लेने के लिए अपने गूगल एडसेंस अकाउंट में अपनी बैंक डिटेल्स लगानी होंगी और अपने गूगल एडसेंस को वेरीफाई करना होगा | गूगल अमेरिकन कंपनी है इसलिए आपके एड्रेस पर अमेरिका से एक लैटर आएगा जिसमें एक 6 अंक का पिन होगा जो आपको अपने गूगल एडसेंस में डालना है, जब तक आपको ये पिन प्राप्त नहीं होता है तब तक आपका अकाउंट वेरीफाई नहीं होगा और जब तक आपका अकाउंट वेरीफाई नहीं होगा तब तक आपको कुछ नहीं मिलेगा | कभी कभी इंडिया में लोगों के पास वेरिफिकेशन नहीं हो पाती है जिससे हजारों रुपये कमाने के बाद भी वो कभी पैसे नहीं ले पाते है तो इसमें आपको अपनी आई डी प्रूफ, एड्रेस प्रूफ और अपनी बैंक डिटेल्स एक दम सही-सही भरनी है | ध्यान रखे ये इंडियन कंपनी नहीं है जो आप एक बार गलती कर लेंगे तो दोबारा सही हो जाएगा | यहाँ गलती करने की सोचना भी मत क्योंकि यहाँ गलती सही नहीं होती है |

अब आपके लिए खुशखबर ये है की अगर सब कुछ सही रहा और आपके सभी डाक्यूमेंट्स और अकाउंट गूगल ने वेरीफाई कर दिए तो जैसे ही आपके एडसेंस में 100 डॉलर यानी की रु.7000/- से ज्यादा की इनकम होगी वो सीधे आपके खाते में हर महीने आती रहेगी, लेकिन अगर किसी महीने आपने 100 डॉलर से भी कम की इनकम की तो आपको आगे आने वाले महीने में पयेमेंट आएगी जब आपकी इनकम 100 डॉलर से ज्यादा हो जायेगी | फिर आप अपने अकाउंट से पैसे निकाल कर खर्च कर सकते है |

निष्कर्ष : - 

आपने मेरी ये पोस्ट पढ़ी है ये एक ब्लॉग पोस्ट ही है आपको ऐसे ही पोस्ट अपने टॉपिक के हिसाब से लिखनी है | यहाँ पर एक बात और ध्यान रखें की मैंने आपको इस पोस्ट में केबल अपना नया ब्लॉग कैसे शुरू करना है उसकी जानकारी दी है अभी  तो ये ब्लॉग्गिंग की शुरुआत भर है | ब्लॉग्गिंग में बहुत कुछ होता है जिसको सीखने में आपको कम से कम 3 महीने का समय लगेगा तब जाकर आप एक अच्छा ब्लॉग लिख पाएंगे | आगे अन्य पोस्ट में, मैं आपको बताऊंगा की आप अपना ब्लॉग कैसे लिखना शुरू कर सकते है और कैसे अपने ब्लॉग को कम समय में पोपुलर करके ज्यादा कमाई कर सकते है और ब्लॉग से ads के अलावा किन-किन चीजों से आप अपनी इनकम को कई गुना बढ़ा सकते है और भी बहुत कुछ है जो आपको आगे पता चलता रहेगा | आशा करता हूँ आपको मेरी ये जानकारी जरूर पसंद आई होगी | धन्यवाद |

SPSINGH
SPLCASH ID-10

मेरे साथ जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए 

You can share this post!

HEMALATA

HEMALATA

By Admin


03 Comments

  • comments

    Nitiya, August 29, 2017

    Borem Ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry Lorem Ipsum has been the industry's standard dummy text.

  • comments

    Fahim, August 29, 2017

    Borem Ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry Lorem Ipsum has been the industry's standard dummy text.

Leave Comments